Lion-Movie-Story-in-Hindi

Lion Movie Story in Hindi | Hollywood Movies Story in Hindi

Lion Movie Story in Hindi: Filmy Diwana आज आपके लिए Lion Movie Story in Hindi लेकर आया है. इस फिल्म की शुरुआत में एक लडके को दिखाया गया है जिसका नाम Saroo (सरू) है. सरू एक गरीब परिवार जन्मा होता है और वह जिंदगी गुजारने के लिए अपने बड़े भाई गुड्डू के साथ ट्रेन में कोयले की चोरी करते है और उस कोयले को एक दुकान में बेचते है. जिस दूकान में यह दोनों कोयले बेचने जाते वहिपर जलेबियाँ बन रही होती है. सरू को जलेबियाँ खाने का मन करता है और वह अपने भाई गुड्डू को कहता है की उसे जलेबिया खानी है. लेकिन उसके पास इतने पैसे नहीं होते है की वह सरू को जलिबिया खिला सके. इसीलिए गुड्डू सरू को कहता है की एक दिन वह उसे जरुर जलेबियाँ खिलायेगा.

उन बेचे हुए कोयले के बदले में यह दूध लेकर आते है. इनके घर पर इनकी एक छोटी बहन और माँ भी होती है. उसी रात गुड्डू काम पर जाने के लिए निकलता है तो गुड्डू उसे कहता है की में भी तुम्हारे साथ आना चाहता हु. तो गुड्डू उसे मना करता है. क्योंकि वहापर उसे बोरिया उठानी होती है और यह काम सरू नहीं कर सकता है. लेकिन सरू अपने सर पर एक खुर्ची उठाता है और एक साइकल को भी उठाता है और गुड्डू को कहता है की में भी तुम्हारी तरह काम कर सकता हु. सरू की बात को गुड्डू मानलेता है और उसे अपने साथ लेकर जाता है. यह दोनों एक रेलवे स्टशन पर आ जाते है. लेकिन सरू को बहुत नींद आने लगती है और वह अपने भाई को कहता है की मुझे सोना है. इसीलिए गुड्डू अपने भाई को स्टशन के एक बेंच पर लेटा देता है और कहता है की मुझे काम पर जाना है तो तुम यही पर रुकना मै तुम्हे कल सुबह वापस लेने के लिए यही पर आऊंगा. सरू अपने भाई को कहता है की जब तुम कल सुबह आओंगे तो मेरे लिए जलेबियाँ भी लेकर आना.

Lion Movie Story in Hindi

इसके बाद गुड्डू काम करने के लिए वहासे चला जाता है. रात और भी गहरी हो जाती है और अब स्टेशन पर कोई भी नहीं होता है. सरू प्लेटफार्म पर खड़ी एक ट्रेन में जाता जाता है और गुड्डू को बुलाने लगता है. सरू को नींद आ जाती है और वह उस ट्रेन में ही सो जाता है. सुबह नींद खुलने पर वह देखता है की ट्रेन आगे जोरोसे बढ़ रही होती है. तो वह ट्रेन के दरवाजे खोलने की कोशिश करता है लेकिन दरवाजा नहीं खोल पाता है. इसलिए स्टेशन आने पर भी वह बाहर नहीं निकल सकता है. इस ट्रेन का डिब्बा पूरा खली होता है और उसमे सरू अकेला ही होता है. अब यह ट्रेन अपना सफ़र पूरा करते हुए कलकात्ता, वेस्ट बंगाल में पोहोच जाती है. यह जगह सरू के घर से 1600 किलो मीटर दूर होती है. दरअसल सरू मध्यप्रदेश के खांडवा जिल्हे में रहने वाला लड़का है.

सरू इस स्टेशन पर चारो तरफ लोगो की भीड़ को देखता है बादमे वह टिकिट काउंटर पर जाकर कहता है की उसे अपने घर वापस जाना है. लेकिन वहापर उसकी बात को कोई भी नहीं समझ पाता है. वहापर सभी लोग बंगाली में बात कर रह होते है. कुछ देर बाद सरू पास में ही कुछ अनाथ बच्चे होते है उनके पास जाकर बैठ जाता है. लेकिन वहापर कुछ लोग आते है जो इन बच्चो को जबरदस्ती उठाकर अपने साथ लेकर जाते है. लेकिन सरू वहासे भागने में कामियाब हो जाता है. भागते हुए उसे एक देवी का मंदिर मिलता है और वहापर रखा हुआ प्रशाद खाने लगता है क्योंकि सरू बहुत भूखा होता है.

Lion Movie Explain in Hindi

अगली सुबह सरू रेलवे ट्रैक पर चलने लगता है क्योंकि वह वापस अपने घर जाना चाहता है. उसे एक औरत दिखाई देती है वह सरू को पुछति है की उसका घर कहा है. तो सरू कहता है की “गनेशतले” यह मध्यप्रदेश का एक बहुत छोटा गाँव है जिस के बारे किसी को भी मालूम नहीं है. वह औरत उसे अपने घर लेकर जाती है और उसे खाना खिलाती है. वह सरू से कहती है की कल सुबह वहापर एक आदमी आयेंगा जो उसे उसकी माँ के पास ले जायेंगा. अगली सुबह वह आदमी सरू को लेने के लिए आता है लेकिन सरू को अब इन दोनों पर शक होने लगता है. इसलिए सरू मौका देखकर वहासे भी भाग जाता है. सरू कुछ दिन हावड़ा ब्रिज के आसपास गुजरता है. इस दौरान सरू को अपनी माँ की बहुत याद आती है.

सरू को अब यहापर आये हुए दो महीने बित जाते है. वह एक कैफ़े के बहार बैठा हुआ होता है और अन्दर बैठे एक लडके की नक़ल करता है. यह देख कर कैफ़े के अन्दर बैठा हुए लड़का सरू को कुछ खाने ले लिए देता है और उसे पोलिस स्टेशन लेकर जाता है. वह पोलिस को बता है की इस लडके को बांग्ला भाषा नहीं आती और यह गनेशतले में रहता है. पोलिस को यह पता नहीं चलता है की आखिर यह गणेशतले कहापर है. फिर भी वह उसके परीवार को खोजने नि कोशिश करती है. इसलिए पोलिस उसे एक अनाथ आश्रम में रहने के लिए भेज देती है.

Hollywood Movie Lion Story in Hindi

तिन महीने बाद सरू को एक मैडम मिलने आती है और उसे बताती है की हमने तुम्हारे परिवार को खोजने को बहुत कोशिश की और अखबार में भी तुम्हारे बारे न्यूज़ दी है. लेकिन कुछ भी फायदा नहीं हुआ है. तो सरू कहता है की मुझे अपने अम्मी और गुड्डू के पास जाना है. तो वह मैडम सरू को बताती है की एक ऑस्ट्रलियन पति पत्नी है जो तुम्हे गोद लेना चाहते है. जहापर जाकर तुम बहुत खुश रहोंगे वह लोग तुम्हारा बहुत ख़याल रखेंगे. इसलिए वह मैडम सरू को अपने साथ अपने घर लेकर जाती है जहापर उसके जैसे ही और बच्चे होते है. वह मैडम इन बच्चो को टेबल मॅनर्स और तोर तरीके सिखाती है. जिसके बाद सरू को ऑस्ट्रेलिया भेज दिया जाता है.

यहापर मिस्टर जॉन और उनकी वाइफ Sue यह दोनों सरू को देखकर बहुत खुश हो जाते है और उसे अपने घर लेकर आते है. सरू यहसब देखकर हैरान होता है उसके लिए यहा का जीवन पूरी तरह से नया होता है. लेकिन सरू को इन सब की आदत होने लगाती है और वह यहाकी भाषा और रहन सहन सब कुछ सिख जाता है. सरू अब इन कपल बे बिच एकदम कम्फोरटेबल हो जाता है. कुछ दिन बाद वह कपल एक और बच्चे को एडोप्ट करते है. लेकिन यह बच्चा इनके साथ एडजस्ट नहीं करता है और खुदको तकलीफ देने लगता है. सरू मिस्सेस Sue को रोते हुए देखता है और उनकी आखे पोछने लगता है क्योंकि सरू अब उसे अपनी माँ मानने लगता है.

Hollywood Top Movies Story in Hindi

सरू को अब यहापर 20 साल गुजर जाते है. सरू को अब होटल मनेजमेंट करनी होती है इसीलिए वह क्लास में आता है. यहापर सभी अपने बारे में बताते है तो सरू भी अपने बारे में झूट बताता है की वह इंडिया कलाकात्ता का रहने वाला है. सरू अपने इन दोस्तों के साथ पार्टी करता है जहापर बहुत सारे इंडियन फूड्स भी होते है. सरू को जलेबियाँ देखकर अपने भाई की याद आती है और वह रोने आता है. वह अपने दोस्तों का बताता है की वह कलाकात्ता से नहीं है, दरसल वह गुम हो गया था और उसका घर भारत में कहीपर है वह उसे पता नहीं है. तो सरू का दोस्त उसे पुछता है की तुम उस ट्रेन में कितने दिनों तक थे और तुम्हारे गाँव का क्या नाम है. तो सरू कहता है की गणेशतले लेकिन उसे ऐसे लगता है की शायद वह उसके गाँव का नाम भी ठीक से नहीं बोल सकता है क्योंकि अब उसे हिंदी भाषा नहीं आती है. तो उसका दोस्त कहता है की अगर हम हावड़ा बिज से टाइम और ट्रेन की स्पीड की कॅल्क्युलेषण करे तो तुम्हारे गाँव का पता लगाया जा सकता है. एक लड़की सरू को गूगल अर्थ के बारे में भी बताती है की किस तरह से वह उसके गाँव का पता लगा सकता है.

अगली सुबह सरू गूगल अर्थ के जरिए अपने गाँव को खोजने क कोशिश करता है और टाइम और ट्रेन की स्पीड की कॅल्क्युलेषण करता है. लेकिन उसे कुछ भी हासिल नहीं होता है. इस तरह से सरू हमेशा अपने घर को खोजने की कोशश करता है और समय बितता जाता है. एक दिन सरू अपनी माँम Sue से मिलता है और कहता है की तुमने इसलिए उसे गोद लिया है क्योंकि वह कभी माँ नहीं बन सकती थी. तो सरू को Sue बताती है की वह माँ बन सकती थी लेकिन उसने और उसके पति ने यह फैसला किया था की वह दो बच्चो को गोद लेंगे और उन्हें अच्छी जिंदगी देंगे. इसलिए उसने कभी अपने बच्चे को जन्म नहीं दिया.

Lion Movie Explain in Hindi/ Urdu

सरू फिरसे अपने गाँव को खोजने की कोशिश करता है. ज्यादा झूम करने पर सरू को अपना गाँव गणेश तलाई मिल जाता है. अब सरू को यह समझ आता है की उसका गाँव मध्यप्रदेश के खांडवा डिस्ट्रिक्ट में है. यह बात सरू अपनी गर्ल फ्रेंड और अपनी माँम को बताता है. तो उसकी माँम कहती है की तुम्हे अपने घर जाना चाहिए और अपनी माँ से मिलना चाहिए. अब सरू भारत में आकर उसी जगह पहूच जाता है जहापर उसने अपना बचपन बिताया था और वह सब कुछ देखते हुए अपने उस घर तक पहुच जाता है जहापर वह अपने परिवार के साथ रहता था. लेकिन उसे यहाँ पता चलता है की इस घर में अब कोईभी नहीं रहता है. वह पड़ोस के लोगों को पुछता है लेकिन उसकी भाषा किसी को भी समझ नहीं आती है.

लेकिन वहापर एक आदमी आता है जो इंग्लिश भाषा बोल सकता है. सरू उससे बात करता है और अपने बचपन की फोटो दिखाकर अपने परिवार के बारे में पुछता. लेकिन वह आदमी उसकी बात का जवाब नहीं देता है औए वहासे चला जाता है. सरू उसे जाते हुए देखने लगता है. लेकिन कुछ पलों के बाद वह आदमी फिरसे आता है और सरू को अपने पास बुलाता है. सरू जब उसके पास जाता है तब देखता है की एक बुड्ढी औरत आ रही होती है और यही औरत सरू की असली माँ होती है. सरू अपनी मा को गले लगाकर रोने लगता है. सरू की माँ इस गाँव को छोड़कर इसीलिए नहीं जाती है क्योंकि उसे हमेशा यहाँ लगता है की वह एक दिन अपने बच्चे को जरुर मिलेंगी. अब सरू अपनी छोटी बहन से भी मिलता है. लेकिन सरू अपने भाई के बारे में पुचता है तो उसे बताया जाता है की जिस रात वह अपने भाई के साथ घर से बाहर निकला था उसी रात उसके भाई की ट्रेन दुर्घटना में मौत हो गयी थी.

यानेकी उस रात उसकी माँ ने अपने दोनों बेटों को खो दिया था. लेकिन उसकी माँ को यह विश्वास था की एक दिन वह अपने छोटे बेटे से जरुर मिलेंगी. सरू ऑस्ट्रेलिया अपने माँम डैड को फोन करके बताता है की उसे उसकी माँ मिल गयी है लेकिन आप मेरे लिए मेरे माँम डैड हो और हमेशा रहोंगे. सरू को पता चलता है की उसका नाम सरू नहीं शेरू है. जिसका मतलब होता है शेर का बच्चा. बाद मसरू उस रेलवे ट्रैक पर भी जाता है जहापर वह बचपन में अपने भाई के साथ जाया करता था और अपने भाई गुड्डू को याद करता है.
अतं में कुछ रियल फुटेज दिखाए जाते है जिसमे सरू के माँ बाप जिन्होंने उसे अडॉप्ट किया था वह भारत आकर सरू के माँ से मिलते है और एक दुसरे को गले से लगा लेते है. तो यह थी कहानी फिल्म Lion Movie Story in Hindi.

यह एक सच्ची कहानी है. यह फिल्म सन 2016 में रिलीज़ की गयी थी. IMDB पर इस फिल्म की रेटिंग 8 है. फिल्म का बजट 12 मिलियन डॉलर था और इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर 141 मिलियन डॉलर्स की कमाई की थी.

READ MORE POSTS

Leave a Reply

Your email address will not be published.